गाँव और शहर

                                      गाँव और शहर का धन्यवाद।

Suna tharali chamoli  uttrakhand 

शहर-ए गाँव  ! तेरा धन्यवाद।
        तू सुंदर गाँव ना होता, तो मैं बड़ा शहर ना होता।
        तेरे खेतों की मेहनत ना होती, तो मेरी दुकानों का पेट ना भरता ।
        अगर तू न होता तो मैं न होता, और मैं न होता तो तू न होता।

गाँव- ए शहर ! तेरा धन्यवाद

         तूने शोर न किया होता, तो मेरी शांति का मोल न होता।
         तुझमे शीशे के महल न बसते, तो मुझपे मिट्टी का लेप न होता।
         अगर तू न होता तो मैं न होता, और में न होता तो तू न होता।

                                               
शहर- ए गाँव  ! तेरा धन्यवाद।
          तुझमें हरियाली ना खिली होती, तो मुझ तक शुद्ध पवन ना पहुँच पाती ।
           तुम भूतकाल की नींव ना होते, तो मैं भविष्य का रास्ता ना बनता ।
          अगर तू न होता तो मैं न होता, और में न होता तो तू न होता।

गाँव- ए शहर ! तेरा धन्यवाद
         तू माया ना होता, तो मेरा मोह ना होता।
         तू विकास का धुआँ न होता, तो मेरे पहाड़ों का महत्व ना होता।
         अगर तू न होता तो मैं न होता, और में न होता तो तू न होता।

हँसते, मुस्कुराते, स्वस्थ रहिये। ज़िन्दगी यही है।  

आप मुझसे इस आईडी पर संपर्क कर सकते हैं.
sujatadevrari198@gmail.com


© सुजाता देवराड़ी

Leave a Reply

%d bloggers like this: