Category: कविता

क्या हो गया इस देश को 0

क्या हो गया है इस देश को

मेरी आँखों से बहता पानी है, क्या हो गया है इस देश को।कोई वहशीपन में कोई है नशे की धुन में, क्या हो गया है इस देश को। लड़ना चाहूँ, मरना चाहूँ, करना चाहूँ...

www.tumblr.com 0

अच्छा लगता है।

मुझे मंजूर है हर वो मुसीबतें, जो बे-वक़्त बिन बताए चली आती है,क्योंकि मुझे ज़िंदगी के लिए लड़ना अच्छा लगता है।मुझे मंजूर है हर वो आँसू, जो बिन बादल बरसात सी मुझे भिगोती है,क्योंकि...

0

अनजाना रिश्ता

एक अनजाने रिश्ते की ख़ुशी और डर दोनों पनपने लगे हैं।सवाल -जवाब की उलझनें आपस में ख़ुद से ही झगड़ने लगें हैं।।जाने क्या मोड़ लेंगी राहें, ना उसको पता है ना कोई ख़बर मुझे।सही...

0

खैर छोड़ो ये सब

सुनो! कभी -कभी  सोचता हूँ कुछ समय में  तुम किसी और की हो जाओगी, तो सब कैसे पलट जाएगा न । बेदर्द वक़्त ने हमें दूर करने का फरमान जो जारी कर दिया था।...

0

जलन- आप जल तो लोगे

हम लोग अपनी ज़िंदगी में कितने स्वार्थी क़िस्म  के हो गए हैं ना..? ये मेरा वो मेरा, इसका-उसका,  ये “मैं” नामक अहंकार हमको दिन ब दिन जकड़ते जा रहा रहा है। मुझे इतना चाहिए, मुझे...

0

अल्फ़ाज़ों को निकलने दो

अल्फ़ाज़ों का हमारी ज़िंदगी में बहुत महत्वपूर्ण क़िरदार होता है। वो हमें हमारे रिश्तों से जोड़े रखता है। उन्हे समेटे रखता है। लेकिन कभी गुस्से या मज़ाक में निकले वही अल्फ़ाज़ हमें या दूसरों...

दिल की आरज़ू 0

दिल की आरज़ू

तेरा मन चंचल है मैं जानता हूँ।  पर तू मेरी जात से वाकिफ़ न ही हो तो बेहतर है।। हँसते, मुस्कुराते, स्वस्थ रहिये। ज़िन्दगी यही है।  आप मुझसे इस आईडी पर संपर्क कर सकते...

0

करोना वायरस -डरना मना है

डरना मना है।  मिलके ही लड़ना है। भीड़ से बचना है। सफाई से रहना है। हाथों को धोना है। हँसके भगाना है। मौत का सपना, जो लेकर ये आया। मुंह के ही बल अब, ...