नया अनुभव- युवा सोच और नये विचारों के साथ अनिरुद्ध काला से हुई रु-बरु 0

नया अनुभव- युवा सोच और नये विचारों के साथ अनिरुद्ध काला से हुई रु-बरु

Post Views: 175 हमारी ज़िंदगी में अलग-अलग अनुभवों का होना हमें परिपक्वता की ओर बढ़ाते जाना होता है। भिन्न-भिन्न लोगों की भिन्न-भिन्न सोच से वाकिफ़ होना और उस सोच से हमें और आपको क्या...

एक खत जिंदगी के नाम 0

एक पुराना खत जिंदगी के नाम

Post Views: 115 ज़िंदगी में कुछ चीजें कभी बदलती नहीं हैं। जैसे कि यह खत जो 2018 में मैंने ज़िंदगी के नाम लिखा था। आज फेसबुक ने याद दिलाया तो लगा कि यह तो...

किताब चर्चा: लौट आया नरपिशाच 3

सस्पेंस थ्रिल से भरपूर है लेखक देवेन्द्र प्रसाद का उपन्यास ‘लौट आया नरपिशाच’

Post Views: 92 किताब: लौट आया नरपिशाच | प्रकाशक: फ्लाईड्रीम्स प्रकाशन | पुस्तक लिंक: अमेज़न कहानी ‘लौट आया नरपिशाच’ एक केंद्र में एक ऐसा नरपिशाच है जिसका आतंक पिछले सौ सालों से चौहड़पुर नामक...

हारुल प्यारी छुमा - पोस्टर 0

सफर हारुल ‘मेरी प्यारी छुमा’ के बनने का

Post Views: 125 नमस्कार दोस्तों अगर आप मुझे जानते हैं या मेरे लेखन को पढ़ते आए हैं तो आप यह बात भी जानते होंगे कि मैं लेखन के साथ-साथ गायन भी करती हूँ। जहाँ...

आज दिवस मेरी माँ का आया | सुजाता देवराड़ी | हिन्दी कविता 4

आज दिवस मेरी माँ का आया | सुजाता देवराड़ी | हिन्दी कविता

Post Views: 243 आज दिवस मेरी माँ का आया।आजाद हुए सब, भारत कहलाया।इस धरती की पुण्य भूमि में।धन्य हुए हम, जन्म जो पायाआज दिवस मेरी माँ का आया। कई दुःख सहे, कई पीड़ा झेली।वीर...

माँ तेरी याद में 3

माँ तेरी याद में

Post Views: 156 माँ तेरी याद में हर पल ये खुद से कहती हूँ इतना सुन्दर रूप सलोना, मन पावन गंगा तेरा। तेरे होने से ये सारा संसार है माँ,हर आस, भाव, ममता की...

लाइफ कोट - life quotes 1

जज़्बात

Post Views: 137 नदी मांझी तरंग किनारे पत्थर सब अपनी जगह अपने क़िरदारों को बाखूबी निभा रहे हैं, फिर जज़्बातों का तूफान अपने इरादों को भूलने की गलती कैसे कर सकता है। -सुजाता देवरारी...