0

अल्फ़ाज़ों को निकलने दो

Post Views: 7 अल्फ़ाज़ों का हमारी ज़िंदगी में बहुत महत्वपूर्ण क़िरदार होता है। वो हमें हमारे रिश्तों से जोड़े रखता है। उन्हे समेटे रखता है। लेकिन कभी गुस्से या मज़ाक में निकले वही अल्फ़ाज़...

0

ढाई दिन की तनख्वाह

Post Views: 3 सुनो ! जरा दो चार सौ रुपये होंगे? मदन ने शीशे में खुद की कमीज (शर्ट) को देखकर अपनी पत्नी शीला से कहा। शीला मदन के लिए टिफिन लेकर कमरे में...

दिल की आरज़ू 0

दिल की आरज़ू

Post Views: 2 तेरा मन चंचल है मैं जानता हूँ।  पर तू मेरी जात से वाकिफ़ न ही हो तो बेहतर है।। हँसते, मुस्कुराते, स्वस्थ रहिये। ज़िन्दगी यही है।  आप मुझसे इस आईडी पर...

0

करोना वायरस -डरना मना है

Post Views: 24 डरना मना है।  मिलके ही लड़ना है। भीड़ से बचना है। सफाई से रहना है। हाथों को धोना है। हँसके भगाना है। मौत का सपना, जो लेकर ये आया। मुंह के...

0

इज़हार-ए-मोहब्बत

Post Views: 0 इन गालों पे मेरे,तेरी हथेली के छाप छपे हैं। इज़हार-ए-मोहब्बत, जब से तेरा दीदार किये हैं। सबकी नज़रों से तुझे बचाने के, तमाम जतन कर लिए। पर पलकें मेरी ही चोरी से, तेरी उँगलियाँ...

0

अकेले ही ठीक है।

Post Views: 0 अकेले ही ठीक है। वैसे इंसान अकेले ही ठीक है।      क्योंकि साथी के साथ कई क़िस्म के ताने, और अंजानी उम्मीदें भी मिलती है। कुछ न कहो तो तुम मुझपे,...

0

मैं तप रही थी

Post Views: 2 मैं तप रही थी Google search  मैं तप रही थी घास के, उन पत्तों पर अंगार सी।थी अकेली सोच उस पल, जैसे हवा गुब्बारों सी ।।चीखी मैं चिल्लाई भी, हिम्मत थी...

0

तेरा आँगन सजा करता था ।

Post Views: 2 तेरा आँगन  सजा करता था कभी तेरा बनाया ये, आंगन सजा करता था । आज इनके पैरों पर ,जमी काई है।। कभी तेरी गोदी ने सबको, सहारा दिया था । आज ममता...