राम मंदिर 0

नई अयोध्या का श्री गणेश

Post Views: 71 हे! राम लला तेरे दर पर, कई दीप जले हैं आज।हे! नाथ तेरी सूरत पर, कई नैन टिके हैं आज।।तेरी भक्ति, तेरी शक्ति का, फिर शंखनाद है हुआ।तेरी नगरी में फिर...

सॉरी यार 2

शर्मनाक! गर्भवती हथिनी बनी हैवानियत का शिकार

Post Views: 25 सॉरी यार! हमारे बीच इस जहाँ में तुम्हारे हत्यारे भी रहते हैं।बेहद अफसोस और शर्मिंदगी। जब जानवर कोई इंसान को मारेकहते हैं दुनिया में वहशी उसे सारेएक जानवर की जान आज...

0

अनजाना रिश्ता

Post Views: 37 एक अनजाने रिश्ते की ख़ुशी और डर दोनों पनपने लगे हैं।सवाल -जवाब की उलझनें आपस में ख़ुद से ही झगड़ने लगें हैं।।जाने क्या मोड़ लेंगी राहें, ना उसको पता है ना...

राजेन्द्र बडवाल जी 0

उत्तराखंडी हस्तशिल्प कला को आगे बढ़ाने में प्रयासरत राजेन्द्र बडवाल से एक मुलाकात

Post Views: 373 कुछ दिनों पहले मैंने रिंगाल पर एक पोस्ट साझा की थी जिसमें मैंने रिंगाल के विषय में चर्चा की थी। रिंगाल क्या है? उसकी उपयोगिता क्या है? उसको कैसे इस्तेमाल किया...

रिंगाल 3

रिंगाल – Ringaal (Dwarf Bamboo)

Post Views: 73   उत्तराखंड के पहाड़ी गाँवों में ऐसी बहुत सी चीज़ें जैसे- विभिन्न प्रकार के वनस्पति, औषधियाँ, उपयोगी पेड़ पौधे, खनिज इत्यादि पाए जाते  हैं जिनसे हम परिचित तो होतें हैं पर...

यादें -ऋषि कपूर की - अलविदा Rishi Kapoor 3

यादें -ऋषि कपूर की – अलविदा Rishi Kapoor

ज़िंदगी का खेल कभी-कभी समझ के परे होता है जो ना सुख का हिस्सा होता है ना दुख का, बस अफ़सोस के ही इर्द गिर्द चक्कर लगाता है। कभी लगता है ये ज़िंदगी वाक़ई में दो दिन का खेल है जिसमें इंसान अपने हिस्से का अभिनय करके चला जाता है। रह जाती है तो सिर्फ यादें।

3

बैसाखी मेला

Post Views: 18  बैसाखी का त्यौहार आने वाला  हैं। मगर हर साल की तरह, इस बार ये त्यौहार पूरे हर्ष और उल्लास के साथ मनाया जाना संभव नहीं है। क्योंकि देश एक बहुत बड़े संकट से...