Gulabi Dhoop 1

गुलाबी धूप | हिन्दी कविता

Post Views: 290 ठिठुरती ठंड में तेरा गुलाबी धूप सा मुझे छूकर मेरे कानों में धीमें से मुझे पुचकारनाऔर कहना कि मुझे प्यार की बेल सा तुमसे लिपटना है। सिमटती रात में तेरे दहकते...

2

स्वादिष्ट तिल के लड्डू

Post Views: 46 परिचय-हम लोग अक्सर अपने खाने के लिए बाज़ार से बनी चीज़ें खरीद कर लाते हैं जो बहुत ज्यादा महंगी होने के साथ साथ फायदेमंद भी नहीं होती है। मैं ये नहीं...

0

पंदेरा धार पंदेरा

Post Views: 148 पंदेरा धार पंदेराबहता जाए जल धार पंदेरातू चंचल, शांत, गुस्सेल कभीतू ही प्यास बुझाए धार पंदेराहे धार कहाँ उद्गम कहाँ अंत तेरादिखता कण कण में अंश तेराधरती की गोद में इठलाती...

4

कैसे तैयार होता है एक गीत?

Post Views: 309 गीत संगीत का हमारी ज़िंदगी से जुड़ाव और लगाव एक अलग क़िस्म का होता है जिसे एक शब्द में बयाँ कर पाना मुश्किल है। वहीं इसी गीत संगीत की पसंद ना...

0

क्या है ज़िंदगी

Post Views: 132 किसी के लिए ज़िंदगी दो दिन का मेला है। किसी के लिए ज़िंदगी चार दिन की चाँदनी । किसी के लिए ये ज़िंदगी चंद लम्हों की की खुशी है। लेकिन सच...