पोस्ट

मेरे लेख:

मेरी कहानियाँ:

  • ढाई दिन की तनख्वाह
    Post Views: 74 सुनो ! जरा दो चार सौ रुपये होंगे? मदन ने शीशे में खुद की कमीज (शर्ट) को देखकर अपनी पत्नी शीला से कहा। शीला मदन के लिए टिफिन लेकर कमरे में...
  • अनजाना सा एक चेहरा
    Post Views: 96 “पहली दफ़ा कुछ ऐसा हुआ, दिल ने एक चुगली दिमाग़ से की।उस गली में कोई ख़ास नूर तो नहीं था, उस शीशे में खड़ी कोई हूर तो थी।।”   बस यही...

मेरी कवितायें:

हाल के पोस्ट्स:

%d bloggers like this: