कद्र (Kadar)

अगर किसी की कद्र करनी है तो उसके रहते करो ।
अगर किसी को अच्छा साबित करना है उसके रहते करो।
किसी में खूबियाँ ढूँढने के लिए उसका आपसे दूर जाना जरूरी है क्या?
कोई आपकी ज़िंदगी में अनमोल है ये एहसास कराना हर रिश्ते में खास है।
उसके जाने के बाद उसको याद करना ये बात तो बहुत आम है ।

अपने लिए और सबके लिए सकारात्मक रहिए
क्योंकि जहाँ नकारात्मकता रहती है वहाँ कद्र कभी नहीं हो सकती ।

© सुजाता देवराड़ी

1 Response

Leave a Reply to विकास नैनवाल Cancel reply

%d bloggers like this: